कृष्ण जन्माष्टमी 2021: इस दिन राशि के अनुसार भगवान कृष्ण को कैसे करें प्रसन्न?

lord krishna

कृष्ण जन्माष्टमी 2021: इस दिन राशि के अनुसार भगवान कृष्ण को कैसे करें प्रसन्न?

Astrology Aug 26, 2021 No Comments

भगवान कृष्ण को द्वारकाधीश के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि अगर किसी व्यक्ति को भगवान कृष्ण की कृपा मिलती है, तो उसकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और उसके जीवन से सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं। जन्माष्टमी उनका आशीर्वाद पाने के लिए एक शुभ दिन है। इस वर्ष यह पर्व 30 अगस्त को मनाया जाएगा। राशि के अनुसार जन्माष्टमी पूजा करना और भी शुभ माना जाता है। यहां हम आपके लिए जानकारी लेकर आए हैं कि कैसे आप अपनी राशि के अनुसार भगवान कृष्ण की पूजा कर सकते हैं।

मेष

इस राशि वालों को जल से भगवान कृष्ण और राधा का अभिषेक करना चाहिए। उन्हें भगवान कृष्ण को दूध, नारियल और माखन-मिश्री भोगम से बनी मिठाई भी अर्पित करनी चाहिए। भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए तुलसी जपमाला का उपयोग करके ओम नमोह भगवते वासुदेवय मंत्र का जाप करना चाहिए। अनार को प्रसाद के रूप में प्रयोग करने से सभी उपक्रमों में सफलता मिलती है।

वृषभ

लव वशीकरण एस्ट्रो समाधान के अनुसार  इस राशि के जातकों को पंचामृत अभिषेक करना चाहिए और दूध से बनी मिठाई जैसे रसगुल्ला, पेड़ा आदि का भोग लगाना चाहिए। कमलगट्टा जपमाला से ग्यारह बार श्री राधा कृष्ण शरणं मम मंत्र का जाप करना चाहिए। यह सभी मनोकामनाओं की पूर्ति में सहायक होता है।

मिथुन

मिथुन राशि वालों को दूध से अभिषेक करना चाहिए। उन्हें काजू और पंचमेवा (पांच फल) से बनी मिठाई अर्पित करनी चाहिए। उन्हें भगवान कृष्ण को केला भी अर्पित करना चाहिए और तुलसी या स्फटिक जपमाला का उपयोग करके ग्यारह बार श्री राधा कृष्णये नमोह स्वाहा मंत्र का जाप करना चाहिए। फलों में आपको केला चढ़ाना चाहिए। इससे समाज में आपका मान सम्मान बढ़ेगा।

कर्क

कर्क राशि वालों को श्रीकृष्ण का अभिषेक करना चाहिए और केसर से बनी मिठाई का भोग लगाना चाहिए। आपको खोया बर्फी भी देनी चाहिए। उन्हें श्री राधा वल्लभय नमः का पांच बार जाप करना चाहिए। फलों में आपको नारियल का भोग लगाना चाहिए। यह जीवन में शांति और समृद्धि बनाए रखने में मदद करता है।

सिंह

सिंह राशि वालों को गंगाजल में शहद मिलाकर अभिषेक करना चाहिए। उन्हें भगवान कृष्ण को गुड़ का भोग लगाना चाहिए। इन्हें करने से सभी क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करने में मदद मिलेगी। ऐसा माना जाता है कि ये दुश्मनों को हराने में भी मदद करते हैं। अधिक जानकारी के लिए वशीकरण स्पेशलिस्ट से सम्पर्क करे।

कन्या

कन्या राशि वालों को दूध में घी मिलाकर अभिषेक करना चाहिए। उन्हें दूध और सूखे मेवे से बनी मिठाई भी अर्पित करनी चाहिए। भगवान कृष्ण को लौंग, इलायची, तुलसी के पत्ते, सुपारी के साथ-साथ हरी सब्जियां अर्पित करना भी शुभ माना जाता है। यह भगवान कृष्ण के आशीर्वाद से जीवन में सुख और शांति लाने में मदद करता है।

तुला

तुला राशि वालों को दूध में चीनी मिलाकर अभिषेक करना चाहिए। उन्हें दूध से बनी मिठाई का भोग लगाना चाहिए। श्री कृष्णाय नमः मंत्र का जाप करना चाहिए। उन्हें बादाम और माखन मिश्री को भोग के रूप में अर्पित करना चाहिए। फलों में वे एक केला चढ़ा सकते हैं। इससे सौभाग्य और समृद्धि आती है। तुला

वृश्चिक

वृश्चिक राशि के जातकों को पंचामृत से अभिषेक करना चाहिए। फिर गुड़ से बनी मिठाई का भोग लगाएं। श्री राधा कृष्णाय नमः मंत्र का कम से कम पांच बार जाप करें। फलों में नारियल का भोग लगाना चाहिए। इससे भगवान कृष्ण की कृपा प्राप्त होती है और वह किसी की मनोकामना भी पूरी करते हैं।

धनु

दूध और शहद से अभिषेक करना चाहिए। दूध से बनी मिठाई का भोग लगाएं। जपमाला से ओम नमोह नारायणाय मंत्र का पांच बार जाप करें। फलों के बीच में केला चढ़ाएं। ये भगवान कृष्ण को प्रसन्न करेंगे और आपको उनका आशीर्वाद प्राप्त होगा। आप भोग में अमरूद भी चढ़ा सकते हैं।

मकर

मकर राशि में जन्म लेने वालों को गंगा जल से अभिषेक करना चाहिए और देवकी सुत गोविंदाय नमः मंत्र का जाप करना चाहिए। फलों के बीच अंगूर चढ़ाएं। . आप भगवान कृष्ण को मीठा पान भी चढ़ा सकते हैं। इससे भगवान कृष्ण का आशीर्वाद मिलता है जो आपको सफलता प्राप्त करने में मदद करेगा।

कुंभ

कुंभ राशि वालों को दूध के साथ-साथ पंचामृत से भी अभिषेक करना चाहिए। आपको दूध से बनी लाल रंग की मिठाई का भोग लगाना चाहिए। ओम नमोह भगवते वासुदेवाय मंत्र का ग्यारह बार जाप करें। भगवान कृष्ण को बादाम और काजू सहित सूखे मेवे चढ़ाएं। कुंभ राशि

मीन

मीन राशि वालों को पंचामृत से अभिषेक करना चाहिए। दूध से बनी मिठाई का भोग लगाएं। आप पंचमेवा (पांच फल) चढ़ा सकते हैं। ओम देवकी सुत गोविन्दाय नमः मंत्र का जाप करें। आप नारियल को अन्य फलों के साथ भी चढ़ा सकते हैं। इससे जीवन में सुख और शांति आएगी।